कुए की शादी | Tenali ke Kisse in Hindi ~ thekahaniyahindi

कुए की शादी | Clever Tenali Raman Story in Hindi | Tenaliram ki New Kahaniya | Tenali ke Kisse in Hindi  ~ thekahaniyahindi

कुए की शादी | Clever Tenali Raman Story in Hindi | Tenaliram ki New Kahaniya

tenali raman stories

कुए की शादी | Tenali ke Kisse in Hindi ~ thekahaniyahindi -: एक बार तेनालीराम महाराज कृषणदेवराय से किसी बात पर नाराज था की महाराज ने उसे फिर से किसी चीज पर फटकार दिया जिसकी वजह से तेनालीराम बिना बताये वहा से कही चला गया और दरबार में आना भी बंद कर दिया | 

tenali raman and krishnadevaraya story 

कृष्णदेवराय को पहले तो लगा की तेनालीराम खुद बे खुद आ जायेगा पर तेनालीराम नहीं आया एक महीना बीत गया पर तेनालीराम नहीं आया | अब महाराज कृषणदेवराय को उसकी कमी महसुस होने लगी तो उन्होंने अपने एक नौकर को तेनालीराम का पता करने उसके घर भेज दिया |  


वहा जाकर नौकर को पता चला की तेनालीराम तो बहुत दिनों से अपने घर भी नहीं आया था अब महाराज कृषणदेवराय और भी ज्यादा परेशांन हो गए की तेनालीराम कहा गया ? महाराज कृषणदेवराय ने पुरे राज्य में अपने जासूस फैला दिए | सारा विजयनगर राज्य में तेनालीराम को ढूंढा गया पर तेनाली राम का कही भी पता नहीं चला |

clever tenali raman story

फिर महाराज कृषणदेवराय को एक विचार आया की आस पास के राज्यों में भी एक खबर पंहुचा दी जाये की महाराज कृष्णदेवराय अपने राजकीय कुए की शादी कर रहे हैं इसीलिए सभी राज्यों के राजाओ और जमीदारो को आदेश दिया जाता हैं  की | 

tenali raman short story

वो अपने राज्यों के कुए को लेकर विजयनगर राज्य के दरबार में पहुंच जाये जो भी आदेश को नहीं मानेगा उसका सर कलम किया जायेगा | महाराज कृष्णदेवराय जानते थे की तेनालीराम जहा कही भी होगा वह उस राज्य के राजा की मदद जरूर करेगा और इससे हम उसको खोज भी लेंगे | 

Tenali Raman Story

वही महाराज कृषणदेवराय की घोषणा सुनते ही तेनालीराम भी समझ आ गया की ये सब महाराज कृषणदेवराय की एक चाल हैं सभी राज्यों के मुखिया ये घोषणा सुनकर सकते में थे  वे सब सोच रहे थे की महाराज कृष्णदेवराय को आखिर हो क्या गया हैं | 

 tenaliram ki kahani

भला कुए भी कही उठ के जाते हैं | तेनालीराम जिस राज्य में रहता था उस राज्य का मुखिया काफी परेशान था की तभी तेनालीराम का उसके घर आना होता हैं तेनालीराम उससे बोलता हैं की में आपका शुक्रगुजार हु की आपने मुझे आपके राज्य में रुकने दिया में आपका यह एहसान जरूर चुकाऊंगा राज्य का मुखिया बोलै पर कैसे ? 

tenaliram ki chaturai

तब तेनालीराम बोलै की आप आस पास के सभी राज्यों के राजाओ को एक जगह इकट्ठा कर लीजिये और जैसा में कहु वैसा ही करना हैं इस तरह में महाराज कृष्णदेवराय की घोषणा का हल बताऊंगा | 

tenali raman short stories in hindi

तेनालीराम ने जैसा कहा ठीक वैसे ही सभी राज्यों के राजाओ को एक जगह इकठा कर लिया गया और सभी ने विजयनगर के बहार ही डेरा डाल लिया | तब तेनालीराम ने एक राजा को अपने पास बुलाया और कहा अब तुम महाराज कृष्णदेवराय के पास जाओ और उनसे बोलो की महाराज हम सभी के कुए राजकीय कुए की शादी में शरीक होने के लिए विजयनगर के बहार डेरा डाले हुए हैं कृपा करके आपके कुए को उन सभी कुओं के स्वागत के लिए भेज दीजिये 

short stories of tenali in hindi with moral

उस राजा ने महाराज कृष्णदेवराय के पास जाकर वही बोला जो तेनालीराम ने बोलने के लिए कहा था महाराज कृष्णदेवराय ने कहा की तुम्हे यह सुझाव किसने दिया ?

funny stories of tenali in english

तो राजा ने साफ़ साफ़ सब कुछ बता दिया की कुछ दिनों से हमारे राज्य में एक व्यक्ति आकर ठहरा हुआ हैं उस व्यक्ति ने ही यह सब आपसे बोलने के लिए बोला था उस राजा की बात सुनते ही महाराज कृष्णदेवराय को समझ आ गया की यह सुझाव तेनालीराम ही दे सकता हैं | 

tenali raman short stories hindi language

कुए की शादी | Clever Tenali Raman Story in Hindi | Tenaliram ki New Kahaniya

महाराज कृषणदेवराय ने उससे पूछा अभी वो व्यक्ति कहा हैं महाराज वो अभी विजयनगर के बहार ही सबके साथ ठहरा हुआ हैं थोड़ी देर में ही महाराज कृष्णदेवराय अपने राज्य के बहार पहुंच गए महाराज कृष्णदेवराय को तेनालीराम देखते ही बहुत खुश हो गए और उससे ख़ुशी ख़ुशी वापस दरबार में ले आये और सभी राजाओ का सम्मान के साथ विदा कर दिया | 

यह भी पढ़े 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां