Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi

Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi

Bhooton ki Kahaniyan in Hindi ~ thekahaniyahindi | एक गांव जो सेंकडो सालो से वीरान पड़ा हैं | कुलधरा गांव की कहानी  हिंदी में

हेलो दोस्तों कैसे हो आप सब ? आज आपका भाई फिर हाजिर हो चूका हैं एक नई Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में के साथ | वैसे दोस्तों इस गांव को कौन नहीं जनता | 
यह गांव राजस्थान की मोस्ट हॉन्टेड प्लेस (Most Haunted Place of Rajasthan) में से एक हैं | दोस्तों वैसे देखे तो यह राजस्थान ही नहीं पुरे भारत की सबसे भूतिया जगह (Most Haunted Place of India) में से भी एक हैं | 
दोस्तों इस गांव की कहानी बहोत ही दिलचस्प हैं तो आज की इस भूतो की कहानियाँ इन हिंदी (Bhooton ki Kahaniyan in Hindi) | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में इस गांव की रियल कहानी के बारे में जानेंगे | दोस्तों स्टोरी बहोत ही जबरदस्त होने वाली हैं तो इस भूत की रियल स्टोरी को पूरा पढ़े | 

Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में | Kuldhara Ganv ki Kahani Hindi mein 

Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में - यह गांव है राजस्थान के जैसलमेर जिले का कुलधरा गांव| कहा जाता है कि यह गांव पिछले दो सौ सालों से  रूहानी ताक़तों के कब्ज़े में हैं, कभी एक हंसते खेलता यह गांव आज एक खंडहर में तब्दील हो चुका है|

प्रशासन ने इस गांव की सर हद पर एक फाटक बनवा दिया है जिसके पार दिन में तो सैलानी घूमने आते रहते हैं लेकिन रात में इस फाटक को पार करने की कोई हिम्मत नहीं कर सकता|
जैसे -जैसे लोगों के कदम इस गांव के भीतर बढ़ते हैं यहां का तापमान लगातार कम होता जाता है यहां तक कि कई जगह यह तापमान माइनस में भी पहुंच जाता है|
Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
इन खंडहरों की दीवारों से आने वाली तरह-तरह की आवाजें रोंगटे खड़े करने वाली होती हैं| ऐसा प्रतीत होता है जैसे ये आवाजें हमें वहां से चले जाने का आदेश दे रही हैं|

लोग कहते हैं कि इस गांव में भूतों का बसेरा है| पिछले दो सौ सालों से यह गांव किसी श्राप और बद्दुआ में फंसा हुआ है|

ऐसा कहा जाता है कि  गांव का यह वीराना एक दीवान के पाप के कारण है, यह गांव आज तक नहीं बस पाया उसके पीछे पालीवाल ब्राह्मणों का श्राप है जो उन्होंने राजा के पाप करने पर दिया था|

क्या है इस वीराने की कहानी | कुलधरा गांव

Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
आज एक वीरान खंडहरों में तब्दील हो चुका गांव बारहवीं शताब्दी में पालीवाल ब्राह्मणों की राजधानी हुआ करता था, जिसकी समृद्धि के चर्चे पूरे राजस्थान में थे|

यहां की इमारतों की वास्तुकला मन को मोहने वाली हुआ करती थी, आज भी यहां के खंडहरों की नक्कासी देखकर उन पालीवाल ब्राह्मणों की समृद्धि का अंदाज़ा लगाया जा सकता है|

कहा जाता है कि पालीवाल ब्राह्मणों  की यह समृद्धि जैसलमेर के दीवान सालेह सिंह को फूटी आँख ना भाई और उसने कुलधरा सहित आस पास के चौरासी गाँवों पर भारी कर ठोक दिया|

पालीवाल ब्राह्मणों ने इसका खुलकर विरोध किया|
लेकिन अन्याय यहीं ख़त्म नहीं हुआ, अय्यास सालेह सिंह की नज़र कुलधरा की एक बहुत ही खूबसूरत लड़की पर पड़ी और वह उसे अपने हरम में लाने के लिए कुलधरा पर जोर देने लगा|

लेकिन पालीवाल ब्राह्मणों ने साफ़ इनकार कर दिया, गुस्साए सालेह सिंह के अत्याचार बढ़ते गए|
Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में ~ thekahaniyahindi
एक दिन पालीवाल ब्राह्मणों ने तय किया कि वे इस गांव को छोड़कर कहीं और चले जायेंगे और एक रात वे गांव छोड़कर चले गए और जाते- जाते श्राप दे गए कि अब यह गांव कभी नहीं बसेगा| उसी श्राप के कारण आज कुलधरा का यह हाल है|

तो दोस्तों उम्मीद हैं आज की यह Bhooton ki Kahaniyan in Hindi | कुलधरा गांव की कहानी हिंदी में आप लोगो को जरूर पसंद आई होगी | अगर यह कहानी आपको पसंद आई तो इसे अपने रिश्तेदारों दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे धन्यवाद |

tags - bhoot pret ki kahani hindi, bhuto ki kahaniya, bhoot ki kahani darawani, bhut pret, bhoot ki kahani hindi,

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां