Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | स्वर्ग का झरना ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi

Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी 


Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | स्वर्ग का झरना ऐतिहासिक बावड़ी  :- हेलो दोस्तों कैसे हो आप सब ? आपका फिर हाजिर हैं, एक नई भूतिया और ऐतिहासिक कहानी के साथ। दोस्तों अगर आप Google पर अगर Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | स्वर्ग का झरना ऐतिहासिक बावड़ी रहे हैं तो आप बिलकुल सही जगह आये हो।

Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | स्वर्ग का झरना ऐतिहासिक बावड़ी में हम आपको ऐसे रहस्य की सैर कराने जा रहे हैं, जिसमें प्रवेश करने के बाद लोग थर-थर कांपने लगोगे हैं। ऐसा माहौल जिसमें डर लगना तो पक्‍का है।

यह भी पढ़े |
महम हरियाणा के रोहतक जिले में पड़ता है । रोहतक जिले में यह एक प्रमुख शहर और तहसील है । महम राष्ट्रीय राजमार्ग 9 जो पहले NH-10 होता था( NH 10 ,इस नाम की तो फिल्म भी है ) पर पड़ता है और दिल्ली और सिरसा के बीच एक प्रमुख स्टॉप है । राजनिती में भी महम खास अहमियत रखता है । 


Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi
Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi

हम बात कर रहे हैं, हरियाणा के रोहतक जिले में मौजूद सदियों पुरानी "महम की बावड़ी" के बारे में। अभिलेखगारों के अनुसार, इस बावड़ी में अरबों का खजाना दफन है। लेकिन जो भी अंदर गया, वो वापस लौटा नहीं। इसलिए इसे ‘ज्ञानी चोर की बावड़ी’ या ‘स्वर्ग का झरना’ भी कहा जाता है।


Bhutiya Kuan | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | स्वर्ग का झरना ऐतिहासिक बावड़ी

ज्ञानी चोर की बावड़ी के बारे में कुछ बाते भी पढ़ लिजिए । मुगलकाल की ये बावड़ी देखने लोग इसलिए कम आते है कि ये एक ऐतिहासिक मुगल संरचना है । बल्कि इसलिए ज्यादा आते हैं कि इससे ज्ञानी चोर या जानी चोर से जुड़े रहस्यमयी किस्से कहानियाँ जुड़े हैं । सबसे प्रचलित कहानी है कि ज्ञानी चोर अपना देसी रॉबिन हुड था । सिर्फ अमीरों को लूटता था और गरीबों की मदद करता था ।


Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi
Bhutiya Kuan Part 2

इस बावड़ी में है सुरंगों का जाल

ज्ञानी चोर की बावड़ी में लगे फारसी भाषा के एक अभिलेख के अनुसार इस "स्वर्ग के झरने" का निर्माण उस समय के मुगल राजा शाहजहां के चैबदार सैद्यू कलाल ने 1069 एएच यानि 1658-59 एडी में करवाया था।
यह स्वर्ग के झरने की बावड़ी विशाल है। इसमें एक कुआं है जिस तक पहुंचने के लिए 101 सीढिय़ां उतरनी पड़ती हैं। इसमें कई कमरे भी हैं, जो कि उस जमाने में राहगीरों के आराम के लिए बनवाए गए थे।

इस बावड़ी से जुडी है ‘ज्ञानी चोर’ की कहानी
इस बावड़ी को "ज्ञानी चोर की बावड़ी" के नाम से जाना जाता है। लोगों का कहना है कि ज्ञानी चोर एक शातिर चोर था जो धनवानों का लूटता और इस बावड़ी में छलांग लगाकर गायब हो जाता और अगले दिन फिर राहजनी के लिए निकल आता था। 


Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi
Bhutiya Kahani
DB की माने तो जो भी इस खजाने की खोज में अंदर गया वो इस बावड़ी की भूलभुलैया में खो गया और खुद एक रहस्य हो गया। कई जानकार इस जगह को सेनाओं की आरामगाह बताते हैं।

 उनका कहना है कि रजवाड़ों में आपसी लड़ाई के बाद राजाओं की सेना यहां रात को विश्राम करती थी। छांव व पानी की सुविधा होने के कारण यह जगह उनके लिए सुरक्षित थी।

रहस्यमयी ‘चोरों की बावड़ी’, इसमें दफ़न है अरबों का खज़ाना

लोगों का यह अनुमान है कि ज्ञानी चोर द्वारा लूटा गया सारा धन इसी बावड़ी में मौजूद है। लोक मान्यताओं के अनुसार ज्ञानी चोर का अरबों का खजाना इसी में दफन है। 


Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi
ऐतिहासिक बावड़ी
स्थानीय लोगों की मानें तो इसमें सुरंगों का जाल है जो कि दिल्ली और लाहौर तक जाता है। मगर रहस्य आज भी बरकरार है। जानकारों का कहना है कि इस पर फारसी भाषा में ‘स्वर्ग का झरना’ लिखा हुआ है। 

बावड़ी में गायब हो गई थी पूरी बारात

किवदंती है कि "अंग्रेजों के समय में एक बारात सुरंगों के रास्ते दिल्ली जाना चाहती थी। कई दिन बीतने के बाद भी सुरंग में उतरे बाराती न तो दिल्ली ही पहुंच पाए और न ही वापस निकले"

लोकप्रिय हो चुकी बावड़ी जमीन में कई फुट नीचे तक बनी हुई है। इसमें एक कुआं है। कुएं के उपरी सिरे पर एक पत्थर लगा हुआ है। लोगों का मानना है कि इसमें अरबों का खजाना है। 


Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi
Bhutiya Kuan
सरकार द्वारा उचित देखभाल न किए जाने के कारण यह बावड़ी मिट्टी में मिलने को बेताब है। इसके बुर्ज व मंडेर गिर चुके हैं। कुएं के अंदर स्थित पानी काला पड़ चुका है। कुएं के बगल में एक हौद भी बना है । हांलांकी कुए का पानी बिल्कुल सड़ चुका है लोहे के दरवाजे भी जर्जर हो चुके हैं । 

पर अब कई जगह मरम्मत की गई है बड़े अच्छे तरीके से । पहली नजर में लगता ही नहीं कि ये मरम्मत की गई है । बावड़ी के चारों तरफ लोहे की रेलिंग लगा दी गई है चारों तरफ घास भी लगा दी गई है और बहुत बढ़िया तरीके से ध्यान भी रखा जा रहा है। 

लेकिन कुएँ में और उसके आस पास बहुत कूड़ा पड़ा था पानी में पोलोथीन बैग पड़ी थी । वैसे तो इसके सौ मीटर तक कोई निर्माण नहीं कर सकते पर यहाँ रेलिंग से थोड़ी दूर पर ही निर्माण हो चुके हैं । 

पर मैं निजी तौर पर प्रशासन के कार्यों से संतुष्ट हूँ लेकिन सिर्फ मरम्मत के लिए , अंदर की सफाई के लिए बिल्कुल नहीं। क्योंकी बाहरी सुंदरता से अधिक अांतरिक सुंदरता भी जरूरी है ।ये तो आप भी मानते होंगे ।


Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी ~ thekahaniyahindi
ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित हैं
कहने को तो ये बावड़ी पुरातत्व विभाग के अधीन है मगर 352 सालों से कुदरत के थपेड़ों ने इसे कमजोर कर दिया है। जिसके चलते इसकी एक दीवार गिर गई है। 

और दूसरी कब गिर जाए इसका पता नहीं। लोगों का कहना है कि इतिहासकारों को चाहिए कि बावड़ी से जुड़ी लोकमान्यताओं को ध्यान में रखकर अपनी खोजबीन फिर नए सिरे से शुरू करें ताकि इस बावड़ी की तमाम सच्चाई जमाने के सामने आ सके।

यदि सरकार व पुरात्तव विभाग महम की इस ऐतिहासिक जगह के सौंदर्यीकरण पर ध्यान दे तो यह ज्ञानी चोर की बावड़ी पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन सकती है। 

शहरवासियों का कहना है कि ऐतिहासिक जगह होते हुए भी केन्द्र व प्रदेश सरकार का कोई भी विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।

उम्मीद हैं दोस्तों आज की यह स्टोरी "Bhutiya Kuan ki Kahani | ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित है | "स्वर्ग का झरना" ऐतिहासिक बावड़ी" आपको जरूर पसंद आई होगी। अगर पोस्ट पसंद आऐ, तो लाईक और शेय़र करने में शर्म महसुस न करें। आपके विचारो का भी य़हाँ स्वागत है।


धन्यवाद


Tags-ज्ञानी चोर की बावड़ी कहां स्थित हैं, ऐतिहासिक बावड़ी, Bhutiya Kahani, Bhutiya Kuan Part 2, #महम_की_बावड़ी  #स्वर्ण_का_झरणा  #ज्ञानी_चोर_का_खजाना

Post a Comment

0 Comments

close