Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़ ~ thekahaniyahindi

Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़

Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़ :- हेलो दोस्तों कैसे हो आप सब ? आपका फिर हाजिर हैं, एक नई Panchtantra ki Kahani के साथ। दोस्तों अगर आप Google पर अगर panchtantra ki kahaniya in hindi full movie, panchtantra ki kahaniya in hindi book pdf, panchtantra ki kahaniya writer, panchtantra ki kahani in hindi by vishnu sharma, panchatantra ki kahaniya new, kahaniyan, panchtantra ki kahaniya in english, panchtantra ki shikshaprad kahaniyan की कहानी ढूंढ रहे हैं तो आप बिलकुल सही जगह आये हो।

Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़ में हम आपको बहोत ही मजेदार कहानी सुनाने जा रहे जिससे आपको अपनी लाइफ में बहोत ही महत्वपूर्ण सीख मिलेगी। तो Panchtantra ki Kahani इस कहानी को अंत तक पढ़े।

यह भी पढ़े

Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | शेर और गीदड़


Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़ ~ thekahaniyahindi
Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़ ~ thekahaniyahindi
Panchtantra ki Kahaniएक जंगल में एक शेर रहता था। गीदड़ उसका सेवक था। जोड़ी अच्छी थी। शेरों के समाज में तो उस शेर की कोई इज्जत नहीं थी, क्योंकि वह जवानी में सभी दूसरे शेरों से युद्ध हार चुका था, इसलिए वह अलग-थलग रहता था। उसे गीदड़ जैसे चमचे की सख्त जरूरत थी जो चौबीस घंटे उसकी चमचागिरी करता रहे। गीदड़ को बस खाने का जुगाड़ चाहिए था। पेट भर जाने पर गीदड़ उस शेर की वीरता के ऐसे गुण गाता कि शेर का सीना फुलकर दुगना चौड़ा हो जाता।

एक दिन शेर ने एक बिगड़ैल जंगली सांड का शिकार करने का साहस कर डाला। सांड बहुत शक्तिशाली था। उसने लात मारकर शेर को दूर फेंक दिया, जब वह उठने को हुआ तो सांड ने फां-फां करते हुए शेर को सींगों से एक पेड़ के साथ रगड़ दिया।

किसी तरह शेर जान बचाकर भागा। शेर सींगों की मार से काफी जख्मी हो गया था। कई दिन बीते, परंतु शेर के जख्म ठीक होने का नाम नहीं ले रहे थे। ऐसी हालत में वह शिकार नहीं कर सकता था। स्वयं शिकार करना गीदड़ के बस की बात नहीं थी। दोनों के भूखो मरने की नौबत आ गई। शेर को यह भी भय था कि खाने का जुगाड़ समाप्त होने के कारण गीदड़ उसका साथ न छोड़ जाए।

शेर ने एक दिन उसे सुझाया, 'देख, जख्मों के कारण मैं दौड़ नहीं सकता। शिकार कैसे करूं? तु जाकर किसी बेवकूफ-से जानवर को बातों में फंसाकर यहां ला। मैं उस झाड़ी में छिपा रहूंगा।

गीदड़ को भी शेर की बात जंच गई। वह किसी मूर्ख जानवर की तलाश में घूमता-घूमता एक कस्बे के बाहर नदी-घाट पर पहुंचा। वहां उसे एक मरियल-सा गधा घास पर मुंह मारता नजर आया। वह शक्ल से ही बेवकूफ लग रहा था।

Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़ ~ thekahaniyahindi
Panchtantra ki Kahani 

गीदड़ गधे के निकट जाकर बोला 'पांय लागूं चाचा। बहुत कमजोर हो आए हो, क्या बात है?'

गधे ने अपना दुखड़ा रोया, 'क्या बताऊं भाई, जिस धोबी का मैं गधा हूं, वह बहुत क्रूर है। दिनभर ढुलाई करवाता है और चारा कुछ देता नहीं।'

गीदड़ ने उसे न्‍यौता दिया, 'चाचा, मेरे साथ जंगल चलो, वहां बहुत हरी-हरी घास है। खूब चरना तुम्हारी सेहत बन जाएगी।'

गधे ने कान फड़फड़ाए 'राम-राम। मैं जंगल में कैसे रहूंगा? जंगली जानवर मुझे खा जाएंगे।'

' चाचा, तुम्हें शायद पता नहीं कि जंगल में एक बगुला भगतजी का सत्संग हुआ था। उसके बाद सारे जानवर शाकाहारी बन गए हैं। अब कोई किसी को नहीं खाता।' गीदड़ बोला। और कान के पास मुंह ले जाकर दाना फेंका, 'चाचू, पास के कस्बे से बेचारी गधी भी अपने धोबी मालिक के अत्याचारों से तंग आकर जंगल में आ गई थी। वहां हरी-हरी घास खाकर वह खूब लहरा गई है, तुम उसके साथ घर बसा लेना।'

गधे के दिमाग पर हरी-हरी घास और घर बसाने के सुनहरे सपने छाने लगे। वह गीदड़ के साथ जंगल की ओर चल दिया। जंगल में गीदड़ गधे को उसी झाड़ी के पास ले गया, जिसमें शेर छिपा बैठा था। इससे पहले कि शेर पंजा मारता, गधे को झाड़ी में शेर की नीली बत्तियों की तरह चमकती आंखें नजर आ गईं। वह डरकर उछला, गधा भागा और भागता ही गया। शेर बुझे स्वर में गीदड़ से बोला, 'भाई, इस बार मैं तैयार नहीं था। तुम उसे दोबारा लाओ इस बार गलती नहीं होगी।'

गीदड़ दोबारा उस गधे की तलाश में कस्बे में पहुंचा। उसे देखते ही बोला, 'चाचा, तुमने तो मेरी नाक कटवा दी। तुम अपनी दुल्हन से डरकर भाग गए?'

' उस झाड़ी में मुझे दो चमकती आंखें दिखाई दी थीं, जैसी शेर की होती हैं। मैं भागता नहीं तो क्या करता?' गधे ने शिकायत की।

गीदड़ नाटक करते हुए माथा पीटकर बोला, 'चाचा ओ चाचा! तुम भी पूरे मूर्ख हो। उस झाड़ी में तुम्हारी दुल्हन थी। जाने कितने जन्मों से वह तुम्हारी राह देख रही थी। तुम्हें देखकर उसकी आंखें चमक उठीं तो तुमने उसे शेर समझ लिया?'

Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़ ~ thekahaniyahindi
Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma 

गधा बहुत लज्जित हुआ, गीदड़ की चालभरी बातें ही ऐसी थीं। गधा फिर उसके साथ चल पड़ा। जंगल में झाड़ी के पास पहुंचते ही शेर ने नुकीले पंजों से उसे मार गिराया। इस प्रकार शेर व गीदड़ का भोजन जुटा।

Moral; हमें इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि हमें कभी किसी दूसरों की चिकनी चुपडी बातो में नहीं आना चाहिए और कभी मूर्खता नहीं करना चाहिए|

तो दोस्तों उम्मीद हैं आप लोगो को आज की कहानी Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story | शेर और गीदड़  आप लोगो को पसंद आई तो कमेंट करके जरूर बताये और साथ ही दोस्तों इस Panchtantra ki Kahani in Hindi by Vishnu Sharma | Kids Story को Facebook, Twitter पर जरूर शेयर करे। और यदि आपके पास भी कोई कहानी या सत्य घटना पर आधारित कोई कहानी है तो हमें बताए हम उसे अपनी बेवसाइट पर पब्लिश करेंगे आपके नाम के साथ। आपके विचारो का हमारे ब्लॉग पर स्वागत हैं।



धन्यवाद

Tags - panchtantra ki kahaniya in hindi full movie, panchtantra ki kahaniya in hindi book pdf, panchtantra ki kahaniya writer,

Post a Comment

0 Comments

close